May 23, 2017

हरफनमौला पत्रकार विद्या प्रकाश


- डॉ . मुहम्मद अहमद 
अपनी बहुमुखी प्रतिभा से हिंदी जगत को ओतप्रोत करनेवाले सुख्यात पत्रकार विद्या प्रकाश अब हमारे बीच नहीं रहे | उनका विगत 13 मई 2017 को देर रात लगभग सवा दो बजे उनके पैतृक नगर जौनपुर [ उत्तर प्रदेश ] में देहांत हो गया | वे 66 वर्ष के थे | मूल रूप से उत्तर प्रदेश के मछलीशहर के जमुहर गाँव के रहनेवाले श्री श्रीवास्तव जौनपुर के सिपाह में दशकों से रहते थे |वे लीवर कैंसर से पीड़ित थे और इधर कुछ दिनों से चिकुनगुनिया से ग्रसित रहे |
; कान्ति ' साप्ताहिक और मासिक से वे दो दशक से अधिक समय से जुड़े रहे और इस्लाम सहित अन्य विषयों पर लगातार लिखते रहे | उनकी मृत्यु से ' कान्ति ' परिवार को गहरा सदमा लगा है | हमारा परिवार उनके आश्रितों के प्रति गहरी समवेदना प्रकट करता है | विद्या प्रकाश जी अपने पीछे पत्नी गीता श्रीवास्तव [ एडवोकेट ] , बेटे डॉ . अनुराग और बेटी जूही को छोड़ गये हैं |
विद्या प्रकाश का पूरा नाम विद्या प्रकाश श्रीवास्तव है , लेकिन वे सदा ' विद्या प्रकाश ' नाम से लिखते रहे | उन्होंने अपने नाम के साथ कभी जातिसूचक शब्द नहीं लगाया | अपने लंबे पत्रकारिता सफर में उन्होंने दैनिक आज , दैनिक जागरण , दैनिक मान्यवर , तरुण मित्र , दिल्ली न्यूज़ आदि में कार्य किया , लेकिन उनका ' कान्ति ' से जितना लगाव था , उतना किसी संचार माध्यम से नहीं था | सही मायने में ' कान्ति ' में लेखन उनके आत्मिक संतोष का बड़ा ज़रिया था | विद्या प्रकाश जी कहीं भी कार्यरत रहे हों , मगर वे ' कान्ति ' में लिखना नहीं भूलते | प्रायः प्रत्येक सप्ताह उनके लेख हमें मिलते और हम उन्हें प्रकाशित करते | कहानी , लघुकथा , कविता से लेकर रिपोर्ताज तक लिखना उनके लिए बड़ा सहज होता | वास्तव में वे पत्रकारिता के आल राउंडर थे | 
सभी जानते हैं कि ' कान्ति ' इस्लामी पत्रकारिता में दशकों से संलग्न है | अतः हमारे के लेखादि लिखना कुछ कठिन है , लेकिन हरफनमौला [ आल राउंडर ] विद्या प्रकाश जी ऐसा लिखते कि हमें अधिक संपादन की आवश्यकता नहीं पड़ती थी | वे इस्लामी शिक्षाओं से संबंधित विषयों पर ऐसा प्रभावपूर्ण - तथ्यपरक लिखते कि सब मंत्रमुग्ध हो जाते | ऐसे में कभी मुझ पर ये आरोप भी लगे कि मैं आलेख लिखकर ' विद्या प्रकाश ' नाम [ छद्म नाम ] डाल देता हूँ | विद्या प्रकाश नाम के कोई सज्जन नहीं हैं | वे इस्लाम पर कुशलतापूर्वक लिखने के साथ अन्य विषयों पर अपनी कलम चलाते |
अभी थोड़े समय पहले उन्होंने जो लेख भेजे थे , उनमें एक लेख हिंदी भाषा विषयक था , जिसका शीर्षक है ' हिंदी भाषा में विदेशी भाषाओँ के शब्द ' | इस लेख में उन्होंने हिंदी में आये अरबी शब्दों का विशेषकर उल्लेख किया है | विद्या प्रकाश जी एक गंभीर अध्येता भी थे | उनसे मोबाइल पर अक्सर बात होती |  कम बोलते , लेकिन सधी हुई भाषा बोलते | पिछले दिनों अपने बेटे कि शादी की , तो निमंत्रण दिया | मोबाइल पर भी बात की , किन्तु व्यस्तता के चलते मैं शादी - समारोह में शामिल नहीं हो सका | विद्या प्रकाश जी से मेरी एक बार भेंट हुई थी | वह अवसर था जमाअत इस्लामी हिन्द के एक कार्यक्रम का , जिसमें सम्मिलित होने के लिए वे भी आये थे | उस समय वे 'कान्ति ' में न के बराबर लिखते थे | भेंट के दौरान मैंने उनसे लिखने का आग्रह किया , तो उन्होंने लिखने का वादा कर लिया और इस वादे को जीवन पर्यन्त निभाया भी | ऐसे लोग विरले ही मिलते हैं , वह भी आज के ज़माने में | ' कान्ति ' परिवार की ओर से उन्हें हार्दिक शोकांजलि .... उनके योगदान के प्रति हम कृतज्ञ हैं |
        

About the Author

मैं अपना क्या परिचय कराऊं ... आप इतना जान लीजिए कि कुछ लिखता रहता हूँ , इस संकल्प एवं आकांक्षा के साथ कि किंचित मेरे विचार समाजोपयोगी - मानवोपयोगी बन सकें | इस क्रम में '' साहित्य मन '' आपके समक्ष है , जो एक प्रयास है खट्टे - मीठे अनुभवों की आवयविक समग्रता का , वेदना - समवेदना , अनुभूतियों और अनुभवों को बाँटने का ... यह भी कह सकते हैं कि '' साहित्य मन '' आत्म - अन्वेषण की प्रक्रिया है , आत्मशोधन का पड़ाव है , जिसका उद्देश्य किसी पर भी आघात एवं आलोचनात्मक प्रहार करना तथा किसी को भी नीचा दिखाना नहीं है | साथ ही साहित्य - प्रवाह को अवरुद्ध करना भी नहीं है | मैं अपने बारे में यह बताता चलूं कि मैं लगभग 32 वर्षों से पत्रकारिता और साहित्य की सेवा में संलग्न हूँ | प्रतिदिन कुआँ खोदता और पानी पीता हूँ , जिस पर मुझे सायास गर्व है | --- सबको यथायोग्य अभिवादन के साथ ----- आपका अपना ही ------------ [ डॉ .] मुहम्मद अहमद [ 19 दिसंबर 2013]

2 comments:

iBlogger said...

नाम वही, काम वही लेकिन हमारा पता बदल गया है। आदरणीय ब्लॉगर आपका ब्लॉग हमारी ब्लॉग डायरेक्ट्री में सूचीबद्व है। यदि आपने अपने ब्लॉग पर iBlogger का सूची प्रदर्शक लगाया हुआ है कृपया उसे यहां दिए गये लिंक पर जाकर नया कोड लगा लें ताकि आप हमारे साथ जुड़ें रहे।
इस लिंक पर जाएं :::::
http://www.iblogger.prachidigital.in/p/best-hindi-litreture-blogs.html

Kavita Rawat said...

दुखद!

Post a Comment